रोमांटिक कविताएं

बातें जुबां पे, क्यूं आती नहीं हैं…?

बातें जुबां पे, क्यूं आती नहीं हैं, दिल बोले जितना, बताती नहीं हैं, कैसे करुं मैं, बयां दिल की बातें, एहसास भी अब, जताती नहीं हैं। दिल में बसी है, ये सूरत तुम्हारी, मन में रमी है, ये मूरत तुम्हारी, आंखें करुं बंद, जब मिलना हो तुमसे, बातें हो जाती, हमारी तुम्हारी। समझ गए सब, …

बातें जुबां पे, क्यूं आती नहीं हैं…? Read More »

बस चाहा है ये, ज्यादा तो नहीं

सुबह हो जब, तेरी आंखें खुले, मिलकर गले, मेरी नींद खुले, ऐ हमदम मेरे, ओ साथी मेरे, बस चाहा है ये, ज्यादा तो नहीं। हांथो से अपने, लट जो संवारा, कानों के पीछे, वो चिलमन से झांके, बांध के जूड़ा, लगे मन को फिर ये, कि बांधा है तूने, कोई भंवरा आवारा, साड़ी के पल्लू …

बस चाहा है ये, ज्यादा तो नहीं Read More »

ये बारिश की बूंदें

ये बारिश की बूंदें, क्यूं नम हैं ये आंखें, दिखता नहीं वो, ये दिल जिसको चाहे। टिप टिप ये गिरता, लगे जैसे रिमझिम, ये बारिश की बूंदें, क्यूं नम हैं ये आंखें। जो न मिले तुम, तो जी भर के रोऊं, अगर मिल गए तुम, तो बंद हों ये बारिश। खुला है ये मौसम, खिली …

ये बारिश की बूंदें Read More »

पर तुम न मिले

ये खुला आसमान, ये धुली सी जमीन, खिली धूप अभी, पर तुम न मिले। बादलों ने फिर छुपकर, फुहारों से भिगोया है, लगा प्यारा ये तुमसा, पर तुम न मिले। पत्ते फिर हिले हैं, फूल बन दिल खिले हैं,  पतझड़ बीत गया अब, पर तुम न मिले। कितने सावन बीत गए, रिमझिम बूंदें मीत बने, …

पर तुम न मिले Read More »

दो पतंग

कि बन पतंग, उड़ जाऊं मैं, खुले गगन के तले, देना ढील तुम हौले हौले, अपनी उंगलियों के तले। छू लेने दो, आसमा है पास, मन में कसक है जगी, लगे ये कितना खुशनुमा, ज़िन्दगी है यहीं। पड़े जो बूंदे बारिश की, लगे छू लूं इन बादलों को, बांध के पिया, प्रेम की डोर, कर …

दो पतंग Read More »

खफा न होंगे अब फिर से

ऐसे अगर गुस्सा कर खामोश हो जाओगी, मेरे गुम हो जाने की वजह बन जाओगी… तुम्हारे खफा होने की वजह मैं जानता हूं, गर नहीं है पसंद तुम्हें, सब खत्म कर देने कि बात मैं मानता हूं… मत रूठो यूं मुझ से तुम, मत उलझो यूं खुद से तुम, मुस्कुरा दो फिर से तुम, भुला …

खफा न होंगे अब फिर से Read More »

Scroll to Top